ऋतुजा लटके को हाईकोर्ट से बड़ी राहत, BMC को कल सुबह तक इस्तीफा मंजूर करने का आदेश

बॉम्बे हाईकोर्ट ने BMC को ऋतुजा लटके का इस्तीफा कल सुबह तक मंजूर करने का आदेश दिया है. अब वे कल ठाकरे गुट की ओर से अंधेरी उपचुनाव के लिए उम्मीदवारी की अर्जी भर सकेंगी.
एक बार फिर बॉम्बे हाईकोर्ट की ओर से आज (13 अक्टूबर, गुरुवार) ऋतुजा लटके को बड़ी राहत मिली है. मुंबई उच्च न्यायालय ने मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) को आदेश दिया है कि वह कल सुबह 11 बजे तक ऋतुजा लटके का इस्तीफा मंजूर करे और इस बारे में याचिकाकर्ता को सूचित भी करे. बता दें कि कल मुंबई के अंधेरी ईस्ट विधानसभा उपचुनाव के लिए नामांकन की अर्जी भरने का आखिरी दिन है. ऋतुजा लटके को ठाकरे गुट ने अपना उम्मीदवार बनाया है. वे दिवंगत शिवसेना विधायक रमेश लटके की पत्नी हैं.
शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे की ओर से उम्मीदवारी की अर्जी भरने के लिए ऋतुजा लटके ने बीएमसी की नौकरी से इस्तीफा दिया था. लेकिन लटके का इस्तीफा कई वजहों से लटक रहा था. इस्तीफे के नियमों के मुताबिक उन्हें एक महीने पहले नोटिस देना था. उन्होंने 2 सितंबर को इस्तीफा दे भी दिया लेकिन इस्तीफे के पत्र में यह लिखा कि अगर वे ठाकरे गुट की तरफ से अंधेरी ईस्ट विधानसभा का उपचुनाव जीत जाती हैं तो इस्तीफा स्वीकार किया जाए, वरना स्वीकार नहीं किया जाए. बीएमसी ने इस्तीफे का कोई जवाब नहीं दिया. जब महीने पूरे होने को आए और ऋतुजा लटके ने सवाल किया तो बीएमसी ने तकनीकी कारण बताया और फिर से इस्तीफा देने को कहा. इसके बाद ऋतुजा लटके ने 3 अक्टूबर को फिर इस्तीफा दिया. अब बीएमसी ने कहा कि नियम के लिहाज से इस्तीफा एक महीने बाद ही मंजूर होगा.

शिंदे और ठाकरे गुट में टशन चलता रहा, लटके का इस्तीफा लटकता रहा
इस बीच ठाकरे गुट ने एकनाथ शिंदे गुट पर आरोप लगाया कि वह बीएमसी पर इस्तीफा स्वीकार नहीं करने का दबाव बना रहा है. साथ ही यह भी आरोप लगाया कि ऋतुजा लटके को शिंदे गुट में शामिल होने को कहा गया है और उन्हें चुनाव लड़ने के साथ ही मंत्रिपद का भी लालच दिया गया. लेकिन ऋतुजा लटके ने यह साफ कर दिया कि उनके पति की निष्ठा बालासाहेब ठाकरे और उद्धव ठाकरे के प्रति थी, इसलिए वे भी निष्ठा नहीं बदलेंगी और वे ठाकरे गुट से ही चुनाव लड़ेगी, वरना नहीं लड़ेंगी. ठाकरे गुट की ओर से पूर्व मंत्री अनिल परब ने यह भी दावा किया था कि ऋतुजा लटके का इस्तीफा तुरंत मंजूर हो जाएगा अगर वो शिंदे गुट में शामिल हो जाएंगी. ठाकरे गुट में रहने की उन्हें सजा दी जा रही है.

HC ने सवाल उठाया-लटके का इस्तीफा क्यों लटकाया?
इसके बाद ठाकरे गुट की सलाह पर ऋतुजा लटके बॉम्बे हाईकोर्ट चली गईं. हाईकोर्ट ने बीएमसी से सवाल उठाया कि लटके का इस्तीफा क्यों लटकाया? आखिर में अब जाकर बीएमसी ने भ्रष्टाचार का सवाल उठाया. कहा ऋतुजा के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत है. कोर्ट ने पूछा अब पता चल रहा है कि भ्रष्टाचार की शिकायत है? कोर्ट ने बीएमसी को आदेश दिया कि कल सुबह तक इस्तीफा मंजूर हो जाना चाहिए.

शिंदे गुट का फिर खाली गया दांव, लटके लड़ेंगी ठाकरे गुट से अंधेरी उपचुनाव
कोर्ट के इस फैसले के बाद अब ठाकरे गुट की ओर से दिवंगत विधायक रमेश लटके की पत्नी ऋतुजा लटके अंधेरी ईस्ट विधासभा का उप चुनाव लड़ सकेंगी और इसके लिए कल उम्मीदवारी की अर्जी दर्ज करा सकेंगी. ठाकरे गुट के पक्ष में हाईकोर्ट ने दूसरी बार फैसला सुनाया है. इससे पहले मुंबई के शिवाजी पार्क में रैली करने के लिए ठाकरे गुट और शिंदे गुट में रस्सीखेंच हुई थी. हाईकोर्ट ने तब भी ठाकरे गुट के पक्ष में फैसला सुनाया था और उद्धव ठाकरे की मुंबई के शिवाजी पार्क में दशहरा रैली हो पाई थी.
Subscribe to jagruti samachar YouTube Channel
Visit Jaagruti samachar website
Follow us on Facebook
Follow us o twitter
Follow us on Instagram

[ays_slider id=1]

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

उत्तर प्रदेश मे इस बार किसकी होगी सत्ता

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]